Monday, October 3, 2022
Homeदेशउत्तरप्रदेशपत्रकार अगर बैठ जाएगा, तो समाज से उसका संपर्क टूट जायेगा: प्रो....

पत्रकार अगर बैठ जाएगा, तो समाज से उसका संपर्क टूट जायेगा: प्रो. संजय द्विवेदी

लखनऊ। भारतीय जन संचार संस्थान नई दिल्ली के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी ने कहा है कि भारत की पत्रकारिता का भारतीयकरण किये जाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि भारतीय मूल्यों के आधार पर होने वाली पत्रकारिता से ही नवभारत का निर्माण होगा। प्रो. द्विवेदी नारद जयंती के अवसर पर देवर्षि नारद जयंती आयोजन समिति, लखनऊ द्वारा ‘पत्रकार का लोकधर्म और देवर्षि नारद’ विषय पर आयोजित संगोष्ठी को संबो​धित कर रहे थे। लखनऊ के अंतरराष्ट्रीय बौद्ध शोध संस्थान, गोमती नगर में आयोजित इस कार्यक्रम में डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय, लखनऊ के कुलपति प्रो. प्रदीप कुमार मिश्र एवं वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार श्री नरेंद्र भदौरिया ने भी हिस्सा लिया।

प्रो. द्विवेदी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि नारद जी लगातार प्रवास करते थे। आज पत्रकारों को उनके इस गुण से सीखना चाहिए। पत्रकार अगर बैठ जाएगा, तो समाज से उसका संपर्क टूट जायेगा। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता में विश्वसनीयता और प्रामाणिकता का संकट है। पश्चिम के मूल्यों के कारण मीडिया में नकारात्मकता का भाव आया है। आज पत्रकार होने का मतलब ही नकारात्मकता को खोजना हो गया है। इसका कारण है कि हम अपने मूल्यों को भूलकर पश्चिम की पत्रकारिता को अपना रहे हैं।

सारी अपेक्षाएं पत्रकारों से करना ठीक नहीं

आज समाज के हर वर्ग में गिरावट आई है। समाज से अलग पत्रकारिता नहीं हो सकती। इसलिए सारी अपेक्षाएं पत्रकारों से करना ठीक नहीं है। प्रो. द्विवेदी ने कहा कि पत्रकारों के अंदर सामाजिक सरोकार और समाज के लिए कुछ करने की संवेदना होती है। पत्रकारिता कठिन मार्ग है। अपनी जान को जोखिम में डालकर पत्रकार पत्रकारिता करते हैं। आजादी के आंदोलन में भी पत्रकारों ने अहम भूमिका निभाई थी।

आज मीडिया में नवाचार जरुरी

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय, लखनऊ के कुलपति प्रो. प्रदीप कुमार मिश्र ने कहा कि भारत को आगे बढ़ना है, तो विद्यार्थीपरक शिक्षा होनी चाहिए, मातृ सत्तात्मक परिवार होना चाहिए और समाज ज्ञानपरक होना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश के निर्माण में पत्रकारिता का बड़ा योगदान है, लेकिन मीडिया में नवाचार की भी आवश्यकता है।

वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार नरेंद्र भदौरिया ने कहा कि नारद जी पत्रकार ही नहीं, बल्कि वेदों के प्रसारक भी थे। वैदिक वांग्मय से ही भारतीय संस्कृति समृद्ध हुई है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने हमारे इतिहास को कलंकित किया है, उन्हें इतिहास से बाहर करना होगा। कार्यक्रम की प्रस्तावना राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, अवध प्रांत के प्रचार प्रमुख डॉ. अशोक दुबे ने रखी। संगोष्ठी का संचालन वरिष्ठ पत्रकार सर्वेश सिंह ने किया एवं धन्यवाद ज्ञापन वरिष्ठ पत्रकार पी.एन. द्विवेदी ने किया

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments