Wednesday, September 28, 2022
Homeताजा ख़बरेंपर्यटक अब होटल के बजाय गांव के घर में समय बिताना पसंद...

पर्यटक अब होटल के बजाय गांव के घर में समय बिताना पसंद करते हैं : शिव शेखर शुक्ला

भोपाल। पर्यटन का स्वरूप बदल रहा है। पर्यटक अब किसी फाइव स्टार होटल या रिजोर्ट में रुकना पसंद नहीं करते। वे ग्रामीण जीवन देखना चाहते हैं।’ यह कहना था प्रमुख सचिव पर्यटन और संस्कृति एवं प्रबंध संचालक, टूरिज्म बोर्ड शिव शेखर शुक्ला का। वे टूरिज्म बोर्ड द्वारा रिस्पान्सिबल टूरिज्म मिशन के अंतर्गत आयोजित दो दिवसीय उन्मुखीकरण कार्यशाला के समापन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पर्यटक भ्रमण के दौरान ग्रामीणों का रहन-सहन, खान-पान अपनाना चाहते हैं। नए-नए अनुभवों की तलाश में रहते है। गांव के साधारण, लेकिन स्वच्छ और स्थानीय संसाधनों से बने आवासों में रहना पसंद करते हैं इसलिए ग्रामीण पर्यटन को लेकर हमारे क्षेत्र में काफी संभावना है। यह न सिर्फ स्थानीय रोजगार के अवसर सृजित करता है बल्कि प्राकृतिक परिवेश के बीच समय गुजारने का अवसर भी देता है।

प्रमुख सचिव ने कहा कि वोकल फार लोकल को क्रियान्वित करने का इससे अच्छा तरीका और कुछ नहीं है। हमारे प्रदेश में ऐतिहासिक इमारते हैं, पुरातत्व स्थल है, प्राकृतिक सौंदर्य, संस्कृति व कला का अनूठा मिलन है। इतनी सारी खूबियां देश के किसी राज्य में एकसाथ मौजूद नहीं है। कार्य़शाला के समापन पर प्रमुख सचिव शुक्ला ने जिलेभर से आए अधिकारियों से चर्चा कर समस्याएं जानी और पर्य़टन के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने हेतु सुझाव भी लिए।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments